Saturday, February 26, 2011

क्यों ना मै बदले

Align Center

दिन बदला रात बदली
समाज बदल गया
क्यों ना मै बदले

जो नदिया बहती थी
पैरो तले मेरे
कब की सिमटा दूर बहाने लगी
जो दीपक ख़रीदे थी जलाने के लिया
आज टूट मिटी में मिलगये
अब तो साझ की दोपहरी भी बदल गए
रि सखी क्यों मै ना बदली
समय की हर धुरी
घूम अपनी धुरी बदल चुकी
सोचकी मरियादा छोड
कबकी बादली अपनी दिशा को चलदी
जग बदला
ओरी सखी
मै क्यों ना बदली

चहचहाना भूली मुस्किरना भूली
कलियों की बारिश ने नहाना मै अब भूली
बातो बातो में कुछ गुम होजाना भूली
आज देखो सहम गई खुद अचल में मरी हंसी
अपने अंदर के बसी शर्मोहया भूली
पर यह एक एहसास है
मै क्यों ना बदली
क्यों ना बहा पाई
जीवन की नदिया के बसेरो सा बहाना
क्यों अतीत के पन्नो में सिमटी
खो ना पाई आज की बाहों में
वही पुराने पथ चिन्नो को देखती
लिखती रही आसुओ को
काश रोसनी आए जुबपे मेरी
मै लिखूँ खिलता सूरज की सोम्यता
चाँद में सिमटे गुलाब हंसी लिखूँ . . . . .
वो डूबते सूरज को देखूँ और मुस्कुराऊ कलवो फ़िर निकलेगा
री सखी काश अब मै भी बदलू .

1 comment:

ankul said...

koi sayad badal gaya hai.aur ager nahi badla to badalne ki kosis kare . thahrna,rukna to maut hai samay aur jarurat ke sath badlna aur aage barna hi jindgi hai janab..